समर्थक

हेडलाइंस.........

LATEST:


सोमवार, 21 फ़रवरी 2011

आपकी ये नज़र...... ओम कश्यप.




ऐ हसीना आपकी ये नज़र ,

कर गयी हमको बेखबर !
हुआ हम पर ये कैसा असर ,
अपना पता हे ना ज़हा की खबर !
ऐ हसीना आपकी ये नज़र ,
गालों पर हे कुछ लकीरे !
आखों में हे आंसू ,
आये ना अब हमको कुछ भी नज़र !
ऐ हसीना आपकी ये नज़र ,
कर गयी हमको बेखबर !
बीच भवर में हे कश्ती ,
किनारा आये ना नज़र !
अब तुम ही बताओ जाये हम किस डगर ,
ऐ हसीना आपकी ये नज़र ,
कर गयी हमको बेखबर !
आँखों में हे नींदें , नींदों में सपने ,
सपनो में हे आपकी नज़र !
अब तो आकर मिल जाओ डिअर ,
मिल जाये थोडा सुकून आ जाये सबर !
जादू सा कर गयी क्या तुम हो जादूगर ,
रातों का पता नहीं हुई ना दिन की खबर !
चले थे हम भी कभी संभल-संभल कर ,
अब पता चला बिजली सी गिरी रह गए याद बनकर !
ऐ बेखबर आपकी ये नज़र ,
कर गयी ऐसा असर !
हो गए हम बेखबर !!





37 टिप्‍पणियां:

  1. DR. BHUPENDRA JI
    DR. SWAROOP JI
    DR. MONIKA JI
    OR
    SURENDRA JI

    YE PIC MERE DOST KI HE JO MAINE KHUD BANAI HE

    APP SABHI KE PYAR OR AASHIRWAD SE BAHUT KHUSHI MILI
    AAPKA BAHUT BAHUT DHANAYWAAD

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर अल्फ़ाजोँ को रचना मेँ ढाला है ,
    लगता है ये अंदाज़ देखा भाला है ।

    बहुत खूबसूरत भाव भरेँ है आपने रचना मेँ । अच्छा लिख रहेँ है आप ।
    ओम कश्यप भाई बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोमल भाव की रचना
    शायद लिख पाने के लिये दूरी आवश्यक है

    उत्तर देंहटाएं
  4. खूबसूरत भाव रचना मेँ ।
    जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे वाह!
    आँखों में हे नींदें , नींदों में सपने ,
    सपनो में हे आपकी नज़र !
    अब तो आकर मिल जाओ डिअर ,
    मिल जाये थोडा सुकून आ जाये सबर !
    जादू सा कर गयी क्या तुम हो जादूगर ,
    सलाम

    उत्तर देंहटाएं
  6. DR. ASHOK JI
    SANJAY GURU JI
    SURENDRA JI
    MINAKSHI JI
    SAGEBOB JI
    OR
    DIPTI JI
    AAP SABHI KA BAHUT BAHUT AABHAR
    DHANAYWAD

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्दा ख्वाहिशें, सुंदर रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. .

    ऐ हसीना आपकी ये नज़र ,
    कर गयी हमको बेखबर !
    बीच भवर में हे कश्ती ,
    किनारा आये ना नज़र !
    अब तुम ही बताओ जाये हम किस डगर ...

    Beautiful presentation ! But be careful with haseenas .

    Smiles

    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपने तो बहुत अच्छा लिखा.....

    ------------

    मेरे ब्लोग पर आपका स्वागत है.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ओम भाई
    क्या कविता लिखी है
    फोटो भी अच्छी है और फोटो वाली भी
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्यार भरी अच्छी रचना |बधाई |मेरे ब्लॉग पर आपका आना अच्छा लगा
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही उम्दा रचना , बधाई स्वीकार करें .
    आइये हमारे साथ उत्तरप्रदेश ब्लॉगर्स असोसिएसन पर और अपनी आवाज़ को बुलंद करें .कृपया फालोवर बनकर उत्साह वर्धन कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  13. खूबसूरत भाव शुभकामनाये....

    उत्तर देंहटाएं
  14. चलिए इस सुदंर रचना के लिए हम भी आपको मुबारकबाद देते हैं। पर आप इससे और बेहतर लिख सकते है। अगर बुरा लगे तो माफ करना दोस्त।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ताऊ जी
    ज़ाल जी
    चेतन्य जी
    दीपक जी
    और
    आशा जी

    आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया ...यूँ ही अपना मार्गदर्शन देते रहना ताकि और भी प्रगति कर पाऊं ....आप सबका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  16. sm जी
    मिथिलेश जी
    सुनील जी
    और
    एहसास जी
    कोशिश जारी हे जी कतई बुरा नहीं लगा जी

    आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया ...यूँ ही अपना मार्गदर्शन देते रहना ताकि और भी प्रगति कर पाऊं ....आप सबका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. चित्र जैसी ही सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रेम से एकदम सराबोर कविता.अरे अगर हसीना पढ़ ले तो पसीना निकल आये उसे.वाह वाह ,ओम जी.

    उत्तर देंहटाएं
  19. hasino ke najar se bachkar rehna om bhai...najro me bahut h hai jadoo

    उत्तर देंहटाएं
  20. हमेशा की तरह ये पोस्ट भी बेह्तरीन है
    कुछ लाइने दिल के बडे करीब से गुज़र गई....

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुंदर भावाभिव्यक्ति...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुन्दर लिखा है बधाई भाई ओम कश्यप जी

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुंदर रचना..चित्र जैसी ही सुन्दर.. ...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  24. अच्छी रचना है, शुभकामनायें आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  25. shikha varshney ने कहा…
    चित्र जैसी ही सुन्दर कविता.
    Kunwar Kusumesh ने कहा…
    प्रेम से एकदम सराबोर कविता.अरे अगर हसीना पढ़ ले तो पसीना निकल आये उसे.वाह वाह ,ओम जी.
    संजय भास्कर ने कहा…
    hasino ke najar se bachkar rehna om bhai...najro me bahut h hai jadoo

    संजय भास्कर ने कहा…
    हमेशा की तरह ये पोस्ट भी बेह्तरीन है
    कुछ लाइने दिल के बडे करीब से गुज़र गई...

    Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…
    सुंदर भावाभिव्यक्ति...बधाई।

    आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया....आप सबका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  26. जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…
    सुन्दर लिखा है बधाई भाई ओम कश्यप जी

    अरविन्द जांगिड ने कहा…
    बहुत सुन्दर रचना ! आभार.

    सतीश सक्सेना ने कहा…
    अच्छी रचना है, शुभकामनायें आपको !!

    JAGDISH BALI ने कहा…
    Very GooooooooooD.

    आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया
    आप सबका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  27. कश्यप भाई
    सुंदर चित्र ...........बधाई।

    उत्तर देंहटाएं